रविवार, 30 मई 2021

यों लगती है प्यास

 

गर्मी रानी ,क्यों लगती है ,

तुमको इतनी प्यास ?

पी जाती हो गटक् गटागट,

दिन भर कई गिलास ।

 

मटके रीते ,रीत चले हैं ,

कूप ,नदी और ताल ।

इन्हें रोज भरते--भरते ,

धरती नानी बेहाल ।

 

कभी चाहिये शरबत तुमको ,

कभी शकंजी ,लस्सी ।

आइसक्रीम तो , अरे बाप रे...,

पूरी..... सत्तर...अस्सी ।

एक न छोड़ी बोतल फ्रिज में,

कोल्ड-ड्रिन्क खल्लास ....

गर्मी रानी क्यों लगती है ,

तुमको इतनी प्यास ।

 

"क्यों लगती है प्यास ?

न पूछो मुझसे छुटकूलाल ।"

कहते--कहते गर्मी जी का ,

चेहरा होगया लाल ।

"सर्दी ने गुड ,गजक ,बाजरा ,

 उड़द मखानी दाल ,

 तिल की टिक्की गरम मँगौड़े,

 परसे भर-भर थाल ।

मैथी के चटपटे पराँठे ,

और कचौरी खस्ता ।

भजिये ,आलू-बड़े ,समोसे,

सब कुछ कितना सस्ता ।

इतना खाया.... ,इतना खाया

पिया गया ना पानी

अब लगती है प्यास ,तभी तो ,...

पानी ,..पानी...,पानी....

और ..और ..बस पानी

6 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (1-6-21) को "वृक्ष"' (चर्चा अंक 4083) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    --
    कामिनी सिन्हा


    जवाब देंहटाएं
  2. धन्यवाद कामिनी जी . अवश्य आऊंगी .

    जवाब देंहटाएं
  3. पानी के विषय में बहुत प्यारी मन भावन कविता ।

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत ही प्यारी रचना पढ़ते समय छोटे बच्चों वाला एहसास होता है सच में बहुत ही बेहतरीन है ये कविता बचपन की याद दिला दी!😇😇😇😇😇😇😇😇
    हमारे ब्लॉग पर भी आइएगा आपका स्वागत है🙏🙏

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत ही उम्दा भाव और लेखनी।

    जवाब देंहटाएं