शनिवार, 19 जून 2021

मेरे बाबूजी

सरल साँवले दुबले-पतले मेरे बाबूजी .

भट्टी में तपकर निकले थे मेरे बाबूजी .


नियमों के पक्के बाबूजी 

बातों के सच्चे थे . 

निर्मम था अनुशसन  ,

पर दिल से पूरे बच्चे थे .

बड़े कठोर ,बड़े कोमल थे मेरे बाबूजी .


लेखन गायन और चिकित्सा में

पूरे निष्णात .

कभी नहीं आए जीवन में ,

द्वेष, बैर , छल ,घात .

झूठ ,कपट से अनजाने थे मेरे बाबूजी .


सादा जीवन ,ऊँचा चिन्तन ,

ध्येय रहा जीवन में .

जाति धर्म का भेद न माना

थी समरसता मन में .

सबके प्यारे मास्टरजी थे मेरे बाबूजी .


“या हंसा मोती चुगै 

या लंघन मर जाय .

जितनी लम्बी चादर हो ,

उतने ही पाँव बढ़ाय .”

यही सीखकर पले बढ़े थे मेरे बाबूजी .


नंगे पाँव चले काँटों पर  ,

थककर कभी न हारे  .

धूप छाँव में रहे एकरस ,

खोजे नहीं सहारे .

यही सिखाते रहे सभी को मेरे बाबूजी .

मरु में लाते रहे नमी को मेरे बाबूजी .

8 टिप्‍पणियां:

  1. जी नमस्ते ,
    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा आज रविवार (२१-0६-२०२१) को 'कुछ नई बाते नये जमाने की सिखाना भी सीख'(चर्चा अंक- ४१०२) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है।
    सादर

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद अनीता जी . मैं देख नही पाई थी . अब देखती हूँ .

      हटाएं
  2. कृपया रविवार को सोमवार पढ़े।

    सादर

    जवाब देंहटाएं
  3. नंगे पाँव चले काँटों पर ,

    थककर कभी न हारे .

    धूप छाँव में रहे एकरस ,

    खोजे नहीं सहारे .

    यही सिखाते रहे सभी को मेरे बाबूजी .

    मरु में लाते रहे नमी को मेरे बाबूजी .

    बहुत सुंदर हृदयस्पर्शी रचना गिरिजा कुलश्रेष्ठ जी 🙏

    जवाब देंहटाएं
  4. स्नेह से प्रदीप्त , हृदय स्पर्शी सृजन।

    जवाब देंहटाएं