सोमवार, 11 अप्रैल 2022

करूँ मैं क्या ?

 पूसी पहुँची पटना जबसे ,

अपने पूरे घर में तबसे ,

है चुहियों का राज,

करूँ अब क्या ?

 

पहले-पहल एक ही आई .

एक और फिर पडी दिखाई .

अब पूरा का पूरा कुनबा ,

दिन भर खेले छुआ-छुलाई .

और कबड्डी रात ,

करूँ अब क्या ?

 

ऊपर -नीचे सरपट दौडें ,

जैसे किसी रेस के घोडे ।

आलू-प्याज पुलाव पकौडे ,

फल भी नहीं अछूते छोडे ।

चिन्दी, कागज, डिब्बी-डिब्बे.

सभी कुतर कर थोडे-थोडे ,

कर डाले बेकार ,

करूँ अब क्या ?

 

पिंजरे को पहचान गई है .

टिकियों को ये जान गईं हैं .

देख सूँघ हिल-मिल जाती हैं

बच कर निकल-निकल जाती हैं .

कितनी खटपट करो डरालो ,

नाली बिल सब बन्द करालो .

कितना छका-थका लेती हैं .

कैसे राह बना लेती हैं .

करती हैं बेहाल ,

करूँ मैं क्या ...

 

करती रहती किट्..किट्..कुट्..कुट् ...

चुभती रहती चीं..चीं..चुक्..चुक्..

मचे रात-दिन धमा-चौकडी

अपनी सारी गई हेकडी

जमीं ठाठ से घर में ऐसे ,

घर इनके पुरखों का जैसे

सोपाते हैं जैसे-तैसे ..,

कैसे-कैसे हाल ...

करूँ अब क्या ?

---------------------

7 टिप्‍पणियां:

  1. सादर नमस्कार ,

    आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (12-4-22) को "ऐसे थे न‍िराला के राम और राम की शक्तिपूजा" (चर्चा अंक 4398) पर भी होगी।
    आप भी सादर आमंत्रित है,आपकी उपस्थिति मंच की शोभा बढ़ायेगी।
    ------------
    कामिनी सिन्हा

    जवाब देंहटाएं
  2. इतना गज़ब का टॉपिक गिरिजा जी, इससे पहले नहीं पढ़ा...जबरदस्‍त...रचना...
    यदि आपकी अनुमति हो तो क्‍या इसे मैं अपनी वेबसाइट पर दे सकती हूं ?

    जवाब देंहटाएं
  3. वाह! मज़ा आ गया पढ़कर, बाल कविता सा सृजन बहुत प्यारी कविता गिरिजा जी, अछूता सा विषय।
    अभिनव सृजन।

    जवाब देंहटाएं