सोमवार, 15 जुलाई 2013

वर्षा का स्कूल

आसमान में शुरु होगया,
वर्षा का स्कूल।
सूरज की जो बजी 'बेल,'
सुन दौडे रेलमपेल।
नन्हे -नन्हे बादल ,
लादे भारी बस्ता ,
और पानी की 'बाटल '।

याद दिलाते मम्मी-पापा ,

नदी समन्दर ..यही निरन्तर,
कुछ गये तो नहीं भूल ??
   आसमान में शुरु हो गया ,
   वर्षा का स्कूल --।

कक्षाओं में ,

मचा शोर है ।
बडा जोर है --
"दीदी--दीदी..!..दीदी-दीदी.!!
कितने मुश्किल,
गिनती टेबल !
आज नहीं यह ,
"ए फार एपल  ।"
हम तो आज पढेंगे केवल,
मीठे--मीठे गीत ।"
मुस्काई सुन दीदी हवा  ---
"चलो तुम्हारी जीत ।"

पढकर खुशी-खुशी घर लौटे ,

नन्हे बादल ।
धूम मचाते और चिल्लाते ,
कविता बौछारों की गाते ।
पर्वत मैदानों ने खोले ,
हरियाली के छाते ।
"नहीं गई क्यों मैं भी पढने ?
यों शरमाई धूल ...
आसमान में शुरु होगया ,
वर्षा का स्कूल
( चकमक जुलाई 2000 में प्रकाशित)

6 टिप्‍पणियां:

  1. एकदम कोमल सी कविता है ये...आनंद आ गया पढने में! :) :) :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. वर्षा पर बड़ा प्यारा नवगीत है। इसका प्रवाह मन हर्षाता है तो भाव गुदगुदाते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी लगी यह बाल कविता भी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच में कोमल-गीत.सुन्दर.

    उत्तर देंहटाएं