गुरुवार, 30 मई 2013

सूरज सर

सूरज सर के गरम मिज़ाज
जब देखो रहते नाराज 
 क्यों रहते हैं तेवर तीखे ?
क्यों इतने रूखे अन्दाज ?

देते कितने कठिन सवाल

चलते अन्धड और बवाल
बोलें तो--लू सी चलती है 
डरे-डरे से सब बेहाल
किरणों की ये छडी ??...बाप....रे
होगी बहुत पिटाई आज ।
सूरज सर के गरम मिज़ाज

मैं स्कूल नही जाऊँगी -----

झुरमुट से झाँके गौरैया 
गमले में जा छुपी गिलहरी
बिल में छुप गई चिंकी चुहिया ।
अमराई में चुप्पी साधे ,
मोर पपीहा बुलबुल बाज .
सूरज सर के गरम मिजाज .

बेर--बबूल खडे मुर्गा से 

पीपल को आगया पसीना ।
सिट्टी-पिट्टी गुम गुलाब की
गेंदा भी तो गुमसुम है ना ।
रटा सबक भूली सेवन्ती 
बारहमासी भी बेताज ।
सूरज सर के गरम मिज़ाज ।

नदी--ताल की गिनती गडबड

पोखर के हैं हाल खराब
माथापच्ची करी रात भर 
फिर भी बैठा नही हिसाब।
झरना भैया,की भी देखो
बन्द होगई है आवाज ।
सूरज सर के गरम मिज़ाज ।

सोमवार, 20 मई 2013

वह कौन था ?


एक संस्मरण

तब मैंने दूसरी कक्षा ही पास की थी । आगे पढाने के लिये काकाजी मुझे अपने साथ बडबारी ले गए थे जहाँ दो साल पहले ही उनका तबादला हुआ था ।
सोचिये कि चार-पाँच साल की बच्ची को अपनी माँ से दूर जाना पडे, वह भी पढने के लिये और उस पर भी वहा बहुत सारे डर हों तो...। ,कैसा लगेगा । मुझे ठीक वैसा ही लगता था । यानी कि बहुत ही बुरा । एक तो मुझे माँ की याद आती रहती थी ,ऊपर से गिनती पहाडों और छोटे-छोटे जोड बाकी गुणा भागों के पीछे बडी-बडी डाँटें खाने मिलतीं थीं । मेरी भूख गायब होजाती थी जैसे  स्कूल में टीका लगाने वाले डाक्टर के आने की बात सुन कर हम लोग स्कूल से गायब होजाते थे । अकेले में मौका पाकर मैं खूब रो लेती थी । काकाजी को रोना जरा भी पसन्द नही था । कहते थे कि रोने वाले बच्चे हर जगह फेल होते हैं । वे कभी आगे नही बढ सकते । शायद वे मेरी लाल आँखों और फ्राक में जगह जगह गीले धब्बों को देख कर ही ऐसा कहते हों । लेकिन रोने से भी ज्यादा उन्हें नापसन्द था डरना । 
काकाजी तो बेशक बहादुर थे । वे रात के घुप अँधेरे में नदी के घाट पर ,जहाँ एक मसान रहता था ,अकेले ही जा सकते थे । उफनती नदी को पार कर सकते थे जबकि उसमें कई तरह के साँप मछलियाँ और मगर भी होते थे । वे न भूतों से डरते थे न चुडैलों से और ना ही राक्षसों से । बल्कि मौका पडने पर उन्हें मजा भी चखा सकते थे लेकिन पता नही क्यों काकाजी की बहादुरी भी मुझे डरने से नही रोक पाती थी । काकाजी को क्या मालूम कि मेरे सामने कितने-कितने डर थे जो हर वक्त मुझे दूसरी कई खुशियों तक जाने ही नही देते थे ।
पहले ही बतादूँ कि अगर डाकू लोग बन्दूक नही रखते तो मैं डाकुओं से तो डरने वाली थी नही । लेकिन मेरे सामने दूसरे डर थे जिनमें एक डर था सरपंच काका की बतखों का । मुझे लगता कि बतखों के रूप में शायद कोई राक्षस है वरना बतखें जिन्हें मैं बहुत पसन्द करती थी वे क्यों गर्दन को साँप की तरह लहराती हुई मेरे पीछे दौड पडतीं ? 
दूसरा डर था सरपंच काका के खर्राटों से पैदा हुआ डर । शायद काकाजी को यह बताते हुए कि  स्कूल में तो रात में बागियों का डर रहता है, सरपंच काका ने अपने घर सोने की कडी हिदायत दे रखी थी । इसलिये शाम का धुँधलका उतरने से पहले काकाजी स्कूल को ताला लगा कर सरपंच जी के घर आ जाते थे ।
हाँ, तो सरपंच कक्का के खर्राटे काफी बुलन्द हुआ करते थे । ऐसे कि मानो खुरदरी छत पर कोई लगातार चारपाई घसीट रहा हो । ऐसे में नींद को तो उडना ही था । किसी आहट पर चिडिया तो उड ही जाती है कि नही । पर नींद उडने पर बुरे व डरावने विचार ही क्यों आते हैं यह मुझे आज तक पता नही चला । उस समय हम अनायास ही एक डरावनी सी अँधेरी गुफा में चले जाते हैं । हाँ तो ,जब नींद उड जाती थी तब पुरन्दर और गन्धू की बातें मेरे दिमाग पर हावी होजातीं थी जैसे हिरण के छोटे बच्चे को अकेला पाकर  लकडबग्घा हावी होजाता है । पुरन्दर और गन्धर्व  पहले दिन से ही मेरे दोस्त बन गए थे । पुरन्दर ने स्कूल के पीछे एक पिशाच और चुडैल होने की जानकारी तभी दे दी थी । उसी से मैंने जाना कि चुडैल के पाँव पीछे की ओर होते हैं । बाल सुनहरे और आँखें लाल । नजर से ही खून पी लेतीं हैं किसी का । स्कूल के पीछे वाली खदान में रोज चुडैलों के घुँघरू बजते हैं । वे चुडैलें रात के अँधेरे में यहीं कहीं मेरे आसपास तो नही है..। इस कल्पना से घबराकर मैं काकाजी को देखती । उस समय चारपाई में धँसे हुए से काकाजी बिल्कुल बच्चे जैसे लगते थे । क्योंकि मुझे पता था कि डर की बात सुन कर वे तुरन्त एक कठोर 'मास्टरसाहब' बन जाते हैं इसलिये मैं उन्हें जगाने का विचार छोड देती । जैसे ट्रैफिक में फँसने के डर से लोग अक्सर मुख्य सडक छोड देते हैं ।
लेकिन तब इन सबसे भी बडा एक और डर था । वह डर था 'कमलापती 'का । यह बडबारी में मेरे शुरु के दिनों की ही बात है ।
"यह कमलापती कौन है ?"--मैंने पूछा तो केशकली ने तुरन्त मेरा मुँह बन्द कर दिया । केशकली बेहद दुबली--पतली और बहुत ही चतुर लगने वाली लडकी थी । वहाँ मेरी सबसे पहली सहेली भी ।
""पागल इस तरह उसका नाम मत ले । कभी-कभी नाम सुन कर ही परगट होजाता है । और फिर मेंढक ,बिल्ली ,कबूतर कुछ भी बनाकर अपने झोला में धर ले जाता है ।"
"फिर क्या करता है ?"
"करता क्या है मार काटकर ,और तल-भूनकर कर खा जाता है । खास तौर पर लडकियों को । मेरी बुआ झूठ थोडी न कहती है !"
मुझे याद आया कि सरपंच काकी भी एक दिन अपनी बेटी से कह रही थीं कि तूने अगर रोना बन्द नही किया तो देख अभी बुलाती हूँ कमलापति को ...। उनकी बेटी ने तुरन्त झरने की तरह फूटती रुलाई को आश्चर्यजनक तरीके से होठों में ही समेट लिया था । हाल यह था कि कमलापति का नाम सुनते ही गलियों से बच्चे ऐसे गायब होजाते थे जैसे लू चलने से मच्छर ।
मुझे यकीन होगया कि कमलापती एक राक्षस है..।  
"राक्षस..नही भयानक राक्षस कहो ।"---केशू बोली---"मेरी अम्मा ने देखा है उसे । ताड की तरह ऊँचा ,पहाड जैसा चौडा और कढाई के तले जैसा काला राक्षस । नुकीले सींग ,बडे-बडे दाँत । लत्ते सी लटकती लपलपाती जीभ और खून टपकाती सी आँखें । वैसा ही ,कहानी में राजकुमारी को चुरा ले जाने वाले राक्षस जैसा ।"
अब हाल यह था कि यह तस्वीर मेरे आजू--बाजू जब चाहे चलना शुरु होजाती थी । मुझे लगता कि मैं भी राजकुमारी हूँ और राक्षस कमलापति जाने कब कहाँ से आकर मुझे चिडिया बनाकर ले जाएगा और पिंजरे में बन्द कर देगा । वे मेरे सबसे बुरे और डरावने दिन थे ।
एक दिन जब इतवार की छुट्टी थी और मैं कासिम दादा के घर से मुर्गियों के ढेर सारे चूजे देख कर स्कूल की तरफ लौट रही थी कि रास्ते में गन्धू मिला । उसने हाँफते-हाँफते एक भयानक खबर सुनाई---" जीजी, जीजी ,कमलापती स्कूल की तरफ गया है । मैंने बाबा को कहते सुना था ।"
उस समय मेरी दशा उस सपने जैसी होगई जिसमें हम किसी संकट से भागना चाहते हैं पर भाग नही सकते । मैँ भागती भी कैसे । काकाजी अकेले जो थे स्कूल में । बेशक वे बहादुर थे पर एक राक्षस से लडने ताकत भी तो चाहिये न । काकाजी को तो वह सूखे तिनके की तरह तोडमरोड कर फेंक देगा । अपने पिता की बेवशी और दुर्दशा की कल्पना से मेरी चीख निकल गई---"काकाजीsssss"
"अरे घुर्रा !!" ( काकाजी बहुत प्यार से मुझे घुर्रा कह कर पुकारते थे) ---काकाजी तुरन्त बाहर आए । उन्हें सलामत पाकर मैं खुशी के मारे उनसे लिपट कर रोने लगी ।
"क्या हुआ बेटी ?" 
"आप ठीक हैं ना ?"
"क्यों , मैं तो अच्छा भला हूँ । आ अन्दर चलें ...।"
"नही ,"..---मैंने पाँव पीछे खींचे----."वो अन्दर अभी बैठा है ?"
"वो कौन?" 
"वो क..म..ला..पति... "
यह सुनते ही काकाजी मुझे गोद में उठाकर अन्दर ले गए ।
"कमलापति ...लो इस लडकी को अपने साथ ले जाओ ।"
मैं डर के मारे संज्ञाहीन सी होगई थी । आँखें कस कर बन्द करलीं थीं मानो ऐसा करना मुझे संकट से बचा लेगा । 
काकाजी पटाखों से मेरा डर दूर करने के लिये अचानक मेरे बगल में पटाखा चला देते थे या मुझसे ही पटाखे चलवा लेते थे । अँधेरे का डर निकालने के लिये भी वे मुझे अँधेरे कमरे में अपना बटुआ लाने भेज देते थे लेकिन मेरी हिम्मत बढाने के लिये मुझे एक राक्षस को ही सौंप देंगे ,ऐसी आशंका तो मुझे हरगिज नही हो सकती थी पर होना क्या काकाजी ने तो मुझे उसके हाथों में ही सौंप दिया । तभी दो मजबूत हाथों ने मुझे सम्हाला । मैंने उसे हँसी के साथ कहते हुए सुना---"सच्ची भेज दो मास्टर साहब । गुडिया का मन लग जाएगा । इतने ही बडे हमारे मुन्नी पप्पू भी हैं । घर में खूब दूध-दही और मक्खन होता ही है । कोई कमी न होगी ।" बिल्कुल आदमी जैसी आवाज ।
मैंने चौंक कर आँखें खोलीं और बरबस ही मुँह से निकल पडा ---"अरे ये तो आदमी हैं ।"
यह सुन कर काकाजी और कमलापति ने जोर का ठहाका लगाया । 
मैं जैसे एक अँधेरी गुफा से बाहर निकल आई थी । 
--------------------------------------------------------------

मंगलवार, 7 मई 2013

क्यों लगती है प्यास ?


गर्मी रानी ,क्यों लगती है ,
तुमको इतनी प्यास ।
पी जाती हो गटक् गटागट, 
दिन भर कई गिलास ।

मटके रीते ,रीत चले हैं ,

कूप ,नदी और ताल ।
इन्हें रोज भरते--भरते ,
धरती नानी बेहाल ।

कभी चाहिये शरबत तुमको ,

कभी शकंजी ,लस्सी ।
आइसक्रीम तो , अरे बाप रे...,
पूरी..... सत्तर...अस्सी ।
एक न छोडी बोतल फ्रिज में,
कोल्ड-ड्रिन्क खल्लास ....
गर्मी रानी क्यों लगती है ,
तुमको इतनी प्यास ।

"क्यों लगती है प्यास ?

न पूछो मुझसे छुटकूलाल ।"
कहते--कहते गर्मी जी का ,
चेहरा होगया लाल ।
"सर्दी ने गुड ,गजक ,बाजरा ,
 उडद मखानी दाल ,
 तिल की टिक्की गरम मँगौडे,
 परसे भर-भर थाल ।
मैथी के चटपटे पराँठे ,
और कचौरी खस्ता ।
भजिये, आलू-बडे ,समोसे,
सब कुछ पाया सस्ता ।
इतना खाया...,इतना खाया,
पिया गया ना पानी 
अब लगती है प्यास 
तभी तो ,..पानी ,
और बस...
पानी....।"