बुधवार, 4 जनवरी 2017

झरना

झर् झर् झर् झरता है झरना .
सर् सर् सर् बहता है झरना ,
पर्वत के अन्तर में पिघली ,
करुण-कथा कहता है झरना .

रात और दिन झरे निरन्तर .
धरती को जल देता भर भर.
पत्तों को हँसना सिखलाता ,
बंजर को भी करता उर्वर .
खुद ही अपनी राह बनाता ,
अपनी धुन रहता है झरना .
झर् झर् झर् झरता है झरना .

वर्षा ऋतु में इतराता है .
शरद फुहारें बिखराता है.
शीत सिकुड़ता थर् थर् थर् थर् ,
वेग जरा सा थम जाता है .
गर्मी में व्यय को सीमित कर ,
सूझ-बूझ गहता है झरना .
झर् झर् झर् झरता है झरना.

गिरिवर की कोमलता है यह
अन्तर की शीतलता है यह .
बाधाओ से ऊपर ,
आगे बढ़ने की आकुलता है यह .
कोई कितना रोके टोके ,

कब किसकी सुनता है झरना .

5 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी रचना बहुत सुन्दर है। हम चाहते हैं की आपकी इस पोस्ट को ओर भी लोग पढे । इसलिए आपकी पोस्ट को "पाँच लिंको का आनंद पर लिंक कर रहे है आप भी कल रविवार 15 जनवरी 2017 को ब्लाग पर जरूर पधारे ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. झरना..एक सुंदर कलाकृति उस कलाकार की..गिरने में भी सुंदरता दर्शाता..कभी न रुकने का संदेश देता..खूबसूरत कविता गिरिजा जी !

    उत्तर देंहटाएं
  3. गिरिवर की कोमलता है यह
    अन्तर की शीतलता है यह .
    बाधाओ से ऊपर ,
    आगे बढ़ने की आकुलता है यह .
    वाह!!

    उत्तर देंहटाएं