गुरुवार, 13 फ़रवरी 2014

पापा तुम बस मेरे ही हो ...।

सहमे से बोले अप्पू जी
"पाप जरा बताओ ।
क्या तुम दादी के बेटे हो ?
साफ-साफ समझाओ ।"

"हाँ..हाँ वह मेरी माँ हैं-"-

कहकर पापा मुस्काए ।
"बेशक मैं उनका बेटा हूँ ।"
सुन अप्पू घबराए ।

"और बुआ के भैया भी हो ?

दीपा के भी मामा भी...??"
"हाँ"---बोले पापा तो ,उनका 
खिसका पाजामा भी ।

कोई पापा को या ,

पापा अपना कहें किसी को।
नहीं गवारा बिल्कुल-बिल्कुल 
अपने अप्पू जी को ।

डाल गले में बाँह ,

ठुनक कर बोले चढा पाजामा
"पापा तुम बस मेरे ही हो ,
बेटा, हो या मामा....।"

3 टिप्‍पणियां: