रविवार, 16 मार्च 2014

होली, होली, होली ।

सुबह -शाम सिन्दूरी हो  लीं ।
होली, होली, होली  ।
आँगन धूप झाँक कर बोली , 
होली, होली, होली ..।

खुलीं ,खिलीं कचनारी कलियाँ।
चीं चीं...चूँ,चूँ ..गाऐं चिडियाँ।
हुल्लड करती हरियल-टोली,
होली , होली , होली ,।

सरसों को रँग दिया वसन्ती ,
पीली ,लाल हुई सेवन्ती ।
टेसू ने लो केसर घोली --
होली , होली , होली ।

 जी भर बौराई अमराई ,
बेरों ने खुशबू फैलाई ।
है शहतूत शहद की गोली -
होली , होली , होली ।

हवा झूमती सी लहराती ,
झूम-झटक पेडों को जाती ।
उसके पास गुलाल न रोली -
होली , होली , होली ।

बगुला जी रंगों से बचने ,
नदी किनारे पहुँचे छिपने ।
दे पिचकारी मछली बोली--
होली , होली , होली ।

छुप ना कोयल बाहर आ री ,
तुझ पर रंग चढेगा क्या री ।
खुल कर करले हँसी ठिठोली--
होली , होली , होली ।
-------------------------------

8 टिप्‍पणियां:

  1. मस्त होली है!! सबों को भिगोकर रंग गई अपने रंगों में!!
    होली की बहुत बहुत शुभकामनाएँ!!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह...सुन्दर और सामयिक पोस्ट...
    आप को होली की बहुत बहुत शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@हास्यकविता/ जोरू का गुलाम

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना, होली की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आहा ! लयबद्ध सुंदर और सरल कविता
    होली और वसंत की शुभ-कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. बच्चों के लिए ?अरे ,यह तो हम बूढ़ों मन भी अपने रंगों में लपेट ले ऐसी प्यारी कविता है !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर शब्द प्रयोग, मीठी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं